चम्पा षष्ठी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
चम्पा षष्ठी
Khandoba temple Pune.jpg
चम्पा षष्ठी के दिन जेजुरी का खंडोबा मंदिर में हल्दी की होली
अनुयायी हिन्दू, मराठी एवं कन्नड़ भारतीय
प्रकार Hindu
उद्देश्य पापमोचन एवं सुख समृद्धि
तिथि मार्गशीर्ष मास की शुक्ल पक्ष की षष्ठी

चंपा षष्ठी मार्गशीर्ष मास की शुक्ल पक्ष की षष्ठी तिथि को मनाई जाती है। यह त्योहार भगवान शिव के अवतार खंडोबा या खंडेराव को समर्पित है। खंडोबा को किसानों, चरवाहों और शिकारियों आदि का मुख्य देवता माना जाता है। यह त्योहार कर्नाटक और महाराष्ट्र जैसे राज्यों का प्रमुख त्यौहार है। मान्यता है कि चंपा षष्ठी व्रत करने से जीवन में खुशियां बनी रहती है। ऐसी मान्यता है कि यह व्रत करने से पिछले जन्म के सारे पाप धुल जाते हैं और आगे का जीवन सुखमय हो जाता है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. षष्ठी: व्रत करने धुल जाते हैं पूर्व जन्म के पाप ऐसे, ये है महत्व। टीम डिजिटल/हरिभूमि.कॉम, दिल्ली |नवंबर २४, २०१७। अभिगमन तिथि: १७ दिसम्बर, २०१७।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]