मुखपृष्ठ/अन्य भाषाओं में

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
 
 
Icona
Wikipedia-logo.png
एक मुक्त ज्ञानकोश, जो सभी को सम्पादन का अधिकार देता है।
विकिपीडिया सभी विषयों पर प्रामाणिक और उपयोग, परिवर्तन व पुनर्वितरण के लिये स्वतन्त्र विश्वकोष बनाने का एक बहुभाषीय प्रकल्प है। यह यथासम्भव निष्पक्ष दृष्टिकोण वाली सूचना प्रसारित करने के लिये कृतसंकल्प है। सर्वप्रथम अंग्रेज़ी विकिपीडिया जनवरी २००१ में आरम्भ किया गया था, और हिन्दी विकिपीडिया का शुभारम्भ जुलाई २००३ में हुआ। सहायता पृष्ठ पर जाएँ और प्रयोगस्थल में प्रयोग करके देखें कि आप स्वयं किसी लेख को कैसे परिवर्तित कर सकते हैं
 
 
Icona चयनित लेख
भोजेश्वर मंदिर

भोजेश्वर मन्दिर मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से लगभग 30 किलोमीटर दूर स्थित भोजपुर नामक गांव में बना एक मन्दिर है। यह मन्दिर बेतवा नदी के तट पर विन्ध्य पर्वतमालाओं के मध्य एक पहाड़ी पर स्थित है। मन्दिर का निर्माण एवं इसके शिवलिंग की स्थापना, धार के प्रसिद्ध परमार राजा भोज ने करवायी थी। उनके नाम पर ही इसे भोजपुर मन्दिर या भोजेश्वर मन्दिर भी कहा जाता है, हालाँकि कुछ किंवदंतियों के अनुसार इस स्थल के मूल मन्दिर की स्थापना पाँडवों द्वारा की गई मानी जाती है। इसे उत्तर भारत का सोमनाथ भी कहा जाता है। यहाँ के शिलालेखों से 11वीं शताब्दी के हिन्दू मन्दिर निर्माण की स्थापत्य कला का ज्ञान होता है। इस अपूर्ण मन्दिर की वृहत कार्य योजना को निकटवर्ती पाषाण शिलाओं पर उकेरा गया है। इन मानचित्र आरेखों के अनुसार यहाँ एक वृहत मन्दिर परिसर बनाने की योजना थी, जिसमें ढेरों अन्य मन्दिर भी बनाये जाने थे। इसके सफ़लतापूर्वक सम्पन्न हो जाने पर ये मन्दिर परिसर भारत के सबसे बड़े मन्दिर परिसरों में से एक होता। मन्दिर परिसर को भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण विभाग द्वारा राष्ट्रीय महत्त्व का स्मारक चिह्नित किया गया है व इसका पुनरुद्धार कार्य कर इसे फिर से वही रूप देने का सफ़ल प्रयास किया है। (विस्तार से पढ़ें...)

 
 
Icona आज का आलेख
मुरैना ज़िला, मध्य प्रदेश में मधुमक्खी पालन
भारत में मधुमक्खी पालन का प्राचीन वेद और बौद्ध ग्रंथों में उल्लेख किया गया है। मध्य प्रदेश में मध्यपाषाण काल की शिला चित्रकारी में मधु संग्रह गतिविधियों को दर्शाया गया है। हालांकि भारत में मधुमक्खी पालन की वैज्ञानिक पद्धतियां १९वीं सदी के अंत में ही शुरू हुईं, पर मधुमक्खियों को पालना और युद्ध में इस्तेमाल करने के अभिलेख १९वीं शताब्दी की शुरुआत से देखे गए है। भारतीय स्वतंत्रता के बाद, विभिन्न ग्रामीण विकास कार्यक्रमों के माध्यम से मधुमक्खी पालन को प्रोत्साहित किया गया। मधुमक्खी की पाँच प्रजातियाँ भारत में पाई जाती हैं जो कि प्राकृतिक शहद और मोम उत्पादन के लिए व्यावसायिक रूप से महत्वपूर्ण हैं। मधुमक्खी, शहद और मधुमक्खी पालन का उल्लेख भारत के विभिन्न हिंदू वैदिक ग्रंथों में जैसे ऋग्वेद, अथर्व वेद, उपनिषद, भगवद गीता, मार्कण्डेय पुराण, राज निघटू, भारत संहिता, अर्थशास्त्र और अमरकोश में किया गया है। विभिन्न बौद्ध ग्रंथों जैसे विनयपिटक, अभिधम्मपिटक और जातक कहानियों में भी मधुमक्खी और शहद का उल्लेख है।  विस्तार में...
 
 
Icona समाचार
अगुंग पर्वत में ज्वालामुखी विस्फोट
 
 
Icona क्या आप जानते हैं।..
पर्स जैसी गाड़ी
  • ... कि हैदराबाद के सुधा कार संग्रहालय में रोज़मर्रा की वस्तुओं जैसी गाड़ियाँ (उदाहरण में पर्स जैसी गाड़ी चित्रित) प्रदर्शित हैं?
  • ... कि मैलकम मार्शल ने 1983 से 1991 की अवधि में वेस्टइंडीज गेंदबाजों द्वारा लिये गए विकटों में से 31.37 फीसदी विकेट स्वयं लिये?
  • ... कि १९१७ कि मूक फ़िल्म लंका दहन में अण्णा सालुंके ने भारतीय सिनेमा में पहली बार दोहरी भूमिका निभायी थीं?
  • ... कि १९२०-२१ में, बसंती देवी ने जलपाईगुड़ी से तिलक स्वराज कोष के लिये स्वर्ण गहने और २००० सोने के सिक्के इकट्ठा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी?
  • ... कि चीन की लोकप्रिय अभिनेत्री बाय यांग को सांस्कृतिक क्रान्ति के दौरान पाँच वर्ष कारावास की सजा हुई?



 
 
Icona चयनित चित्र
Hologram.jpg



त्रिआयामी होलोग्राफीएक स्टेटिक किरण प्रादर्शी प्रदर्शन युक्ति होती है। इस तकनीक में किसी वस्तु से निकलने वाले प्रकाश को रिकॉर्ड कर बाद में पुनर्निर्मित किया जाता है, जिससे उस वस्तु के रिकॉर्डिंग माध्यम के सापेक्ष छवि में वही स्थिति प्रतीत होती है, जैसी रिकॉर्डिंग के समय थी। ये छवि देखने वाले की स्थिति और ओरियन्टेशन के अनुसार वैसे ही बदलती प्रतीत होती है, जैसी कि उस वस्तु के उपस्थित होने पर होती।



प्रत्याशी   --   पुरालेख
बंधु प्रकल्प अन्य भाषाओं में विश्वकोष आवश्यक लेख सूची


पूरी सूचीबहुभाषीय सहयोगकिसी अन्य भाषा में विकिपीडिया आरम्भ करें
Purge server cache