रंजीत गुहा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

रंजीत गुहा दक्षिण एशिया के एक इतिहासकार है। सबाल्टर्न अध्ययन समूह में प्रभावशाली होने के अलावा[1], ये इस समूह के कई प्रारंभिक संकलन के संपादक भी थे। वर्ष 1959 में, भारत से ब्रिटेन के लिए स्थानांतरण किया और ससेक्स विश्वविद्यालय में इतिहास के एक पाठक थे। ये वर्तमान में वियना, ऑस्ट्रिया में रहते हैं।[2]

उनकी किताब, "एलीमेंट्री आस्पेक्ट्स ऑफ़ पेअसंत इंसर्जेंसी इन कोलोनियल इंडिया" को व्यापक रूप से एक क्लासिक माना जाता है।[3]

ग्रन्थसूची[संपादित करें]

लेखक[संपादित करें]

  • अ रूल ऑफ़ प्रॉपर्टी फॉर बंगाल : ऍन एस्से ओन थे आईडिया ऑफ़ परमानेंट सेटलमेंट, पेरिस : Mouton & Co., 1963, New edition: Duke University Press, ISBN 0-8223-1761-3
  • एलीमेंट्री आस्पेक्ट्स ऑफ़ पेअसंत इंसर्जेंसी इन कोलोनियल इंडिया, ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, डेल्ही, १९८३, नई एडिशन : Duke Univ Press, 1999, ISBN 0-8223-2348-6 - अ क्लासिक ऑफ़ सबाल्टर्न स्टडीज
  • ऍन इंडियन हिस्टोरिओग्राफ़ी ऑफ़ इंडिया : अ निनटींथ सेंचुरी एजेंडा & इतस इम्प्लिकेशन्स. कलकत्ता : के.पी. बागची & कंपनी. १९८८.
  • गुहा, रंजीत, "History at the Limit of World-History" (Italian Academy Lectures), Columbia University Press २००२

संपादक[संपादित करें]

  • अ सबाल्टर्न स्टडीज़ रीडर, १९८६-१९९५, Univ of Minnesota Press, १९९७, ISBN 0-8166-2758-4

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Guha, Ranajit (1993). Subaltern Studies Reader, 1986-1995. University of Minnesota Press. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-8166-2759-2. 
  2. Milinda Banerjee. "In Search of Transcendence: An Interview with Ranajit Guha". University of Heidelberg. http://www.sai.uni-heidelberg.de/history/download/ranajit_guha_interview_2.2.11.pdf. अभिगमन तिथि: २६ अप्रैल, २०१५. 
  3. Biswas, Amrita (2009). "Research Note on Subaltern Studies". Journal of Literature, Culture and Media Studies. p. 200. 

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]